logo
add image
TRENDING NOW
Blog single photo

वैज्ञानिक चेतना उत्तराखंड की शैक्षिक क्रांति का एक महत्वपूर्ण कदम: प्रो.पाण्डेय

admin 22 Feb 2024 1032

श्रीनगर  हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय चौरास परिसर में भौतिकी विभाग द्वारा आयोजित तीन दिवसीय कार्यशाला का गुरुवार को समापन हो गया। कार्यशाला में राज्य के सभी जिलों से आये 50 से अधिक भौतिक विज्ञान प्रवक्ताओं ने हिस्सा लिया। कार्यशाला में लो कॉस्ट एंड नो कॉस्ट गतिविधियों और प्रयोगों की सहायता से भौतिक विज्ञान की अवधारणाओं पर गहन चर्चा की गयी। राज्यभर के विभिन्न इंटर कालेजों से आये भौतिकी प्रवक्ताओं को हैंडस ऑन एक्सपेरिमेंट्स की किट निर्माण की बारिकियां सिखाने के साथ प्लैनेटेरियम एवं टेलिस्कोप की सहायता से आकाशगंगा के ग्रहों एवं नक्षत्रों का अवलोकन किया गया। कार्यक्रम संयोजक भौतिक विज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. हेमवती नंदन पाण्डेय ने कार्यशाला की सफलता के लिए संसाधकों तथा प्रतिभागियों को बधाई देते हुए कहा कि उत्तराखंड के हर जिले में प्रायोगिक गतिविधियों के लिए अन्वेशिका लैब्स की स्थापना व भावी योजना के सम्बन्ध पर नियमित रूप से संचालन सुनिश्चित किया जाएगा। प्रो. हेमवती ने विज्ञान के अनुप्रयोगों तथा वैज्ञानिक चेतना को उत्तराखंड की शैक्षिक क्रांति का एक महत्वपूर्ण कदम बताया। कार्यशाला में आर्यभट्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट आफ एस्टॉनोमिकल साइंसेज के वैज्ञानिक डॉ. नरेंद्र सिंह ने उत्तराखंड के समग्र विकास हेतु वैज्ञानिक चेतना से लैस नौजवानों के संगठित प्रयास की आवश्यकता पर बल दिया। कार्यशाला में पद्मश्री प्रो. एचसी वर्मा ने स्थापित सोपान आश्रम से पहुंचे विज्ञान संचारक अमित कुमार बाजपेई तथा योगेश कुमार झा ने बाल मनोविज्ञान के दृष्टिगत भौतिक विज्ञान की रोचक गतिविधियों द्वारा इंटरएक्टिव सत्र में प्रतिभागियों को प्रशिक्षण दिया। कार्यक्रम में शोध एवं विकास प्रकोष्ठ के सहायक निदेशक मनीषा निगम तथा भूपेंद्र कुमार, विवेक शर्मा, संजय उपाध्याय, सुनील कुमार, गौरव जोशी, प्रो टीसी उपाध्याय, प्रो. कुलदीप रावत, डॉ. विनोद रावत, डॉ.आलोक सागर, डॉ. शुभ्रा काला, डॉ. ओमप्रकाश, प्रो. अरुण रावत, विनोद जोशी, भुवन मेलकानी, भवानी शंकर काण्डपाल आदि उपस्थित थे।
 

Top